इन कारणों से होता है पेट के बाएं हिस्से में दर्द

पेट में दर्द होना काफी सामान्य माना जाता है लेकिन इसके पीछे क्या-क्या कारण हो सकते हैं। इसके बारे में हमेशा सतर्क रहना चाहिए। कभी-कभी पेट में दर्द सामान्य नहीं होता है यह पेट के किसी विशेष हिस्से की तरफ दर्द होता है। सबसे ज्यादा मामलों में देखा जाता है कि लोगों के बायीं तरह दर्द होता है।

पेट के अलग-अलग हिस्से में दर्द के अलग-अलग मायने होते हैं। पेट में बायीं तरफ होने वाले दर्द को सामान्य नहीं माना जाता है। बायीं तरफ दर्द होने का मतलब है कि पेट के पास के कई अंग हैं जिनमें कुछ परेशानी है।

पेट के निचले हिस्से में दर्द :

पेट के निचले हिस्से में होने वाला दर्द महिला और पुरुष किसी को भी हो सकता है। यह पेल्विक पेन (Pelvic pain) के रूप में सामने आ सकता है, जिसमें गर्भाशय, अंडाशय, फैलोपियन ट्यूब, गर्भाशय ग्रीवा और योनि से जुड़ी समस्या इसका कारण हो सकती है।

वहीं, पुरुषों में इसका कारण प्रोस्टेट से जुड़ी कोई समस्या हो सकती है। वैसे तो इस दर्द का होना सामान्य है, लेकिन यह दर्द अगर तीर्व हो और सहन करना मुश्किल हो, तो शीघ्र ही डॉक्टर के पास चेकअप के लिए जाना चाहिए ।

निचले एब्डोमेन में दर्द के लक्षण क्या हैं?

लोवर एब्डोमिनल दर्द के कई लक्षण हो सकते हैं, जिनके आधार पर इस समस्या को दूर करने के लिए इलाज किया जा सकता है। नीच हम आपको बता रहे हैं लोअर एब्डोमेन पेन के लक्षण क्या-क्या हो सकते हैं –

  • शारीरिक संबंध बनाते समय असहनीय दर्द होना।
  • मासिक धर्म के दौरान तीर्व दर्द होना।
  • मल त्यागने के दौरान दर्द महसूस होना।
  • लंबे समय तक बैठने के बाद दर्द महसूस होना है।
  • कुछ भारी उठाने पर दर्द महसूस हो सकता है।

कारण 

गैस्ट्राइटिस

गैस्ट्राइटिस पेट की एक आम समस्या है। यह स्टोमका लाइनिंग में सूजन की वजह से होता है। सामान्यतया यह परेशानी उन लोगों को ज्यादा होती है जो एल्कोहल का सेवन करते हैं। कई बार गैस्ट्राइटिस की समस्या अल्सर में भी बदल जाता है। अगर आपके पेट के बायीं तरफ कुछ दिनों तक लगातर दर्द रहता है तो डॉक्टर को जरूर दिखाएं।

अपच की समस्या
पेट में दर्द का मुख्य कारण अपच की समस्या माना जाता है। कई बार यह पेट में जलन, ब्लोटिंग और एसिड की वजह से भी होता है। ज्यादातर मामलों में अपच की समस्या से पेट के बायीं तरफ दर्द होता है।

पथरी
किडनी में अगर पथरी या स्टोन होने पर भी बायीं तरफ दर्द हो सकता है। किडनी में स्टोन तब बनता है जब किडनी में मिनरल्स जमा हो जाते हैं। किडनी में छोटे स्टोन होने पर दर्द नहीं होता है लेकिन जब यह सामान्य से बड़ा हो जाता है तब दर्द होना शुरू होता है। अगर आपको पेट के बायीं तरफ लगातार दर्द रहता है तो किडनी का चेकअप जरूर कराना चाहिए।

पेट की नस में खिंचाव
कई बार यह पेट की नसों में खिंचाव की वजह से भी हो सकता है। कुछ लोगों में यह एक्सरसाइज करने की वजह से भी हो सकता है। पेट में जिस तरफ की नस खिंचती है उस तरफ दर्द होता है। बायीं तरफ यह समस्या सबसे ज्यादा होती है क्योंकि सामान्य इंसान का दायां भाग ज्यादा एक्सरसाइज करने में सक्षम होता है वहीं बायीं ओर कम सक्षम होता है।

कैंसर का भी खतरा
कई बार पेट दर्द की वजह पेट का कैंसर भी होता है। क्योंकि पेट में कैंसर के सेल जब शुरुआत के लेवल में होते हैं तो हल्के दर्द देते हैं. अगर आपको लंबे समय से पेट में दर्द रहता है तो विशेषज्ञ से इस बारे में सलाह जरूर करें।

डायवर्टिक्युलाइटिस

यदि आपके छोटी तथा बड़ी आंत में स्थित थैली संक्रमित हो जाये तो यह एक स्थिति का कारण बनती है जिसे डायवर्टिक्युलाइटिस (diverticulitis) कहते हैं जो पेट के बायीं ओर निचले हिस्से में दर्द के साथ साथ तेज़ बुखार (high fever), दस्त (diarrhoea), मिचली (nausea), उल्टी (vomiting) और मल में खून का कारण बनता है।

बायीं ओर पेट में रुक-रुककर होने वाला ऐंठन भरा दर्द भी डायवर्टिक्युलाइटिस (diverticulitis) का लक्षण हो सकता है।पश्चिमी देशों में ये समस्या बहुत सामान्य है जो 50 से अधिक की उम्र के 50% लोगों को प्रभावित करता है और डायट्री फाइबर की कमी से जुड़ा हो सकता है।

यह आमतौर पर हानिरहित होता है और कुछ लोगों को कोई लक्षण अनुभव नहीं होता है लेकिन डायवर्टिक्युलाइटिस से पीड़ित कुछ लोग पेट के बायीं ओर निचले हिस्से में लगातार हल्का दर्द महसूस कर सकते हैं।यदि आपको लगता है कि आपको क्रोनिक अवस्था जैसे कि डायवर्टिक्युलाइटिस है तो डॉक्टर को दिखाएं।

गुर्दे में संक्रमण
पेट के बाईं ओर दर्द इस बात के भी संकेत दे सकता है कि आपकी बाईं किडनी संक्रमित है। जब एक बैक्‍टीरियल इंफेक्‍शन आपके गुर्दे में प्रवेश करता है तो यह आपके पेट के बाईं ओर दर्द का कारण बनता है। इस मुद्दे के कुछ अन्य लक्षण मतली, बुखार, पीठ के निचले हिस्से या कमर के क्षेत्रों में दर्द के साथ-साथ पेशाब में खून आना है। यदि आप दर्द के साथ-साथ लगातार इन लक्षणों को देखते हैं, तो बिना किसी देरी के अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

इसके अलावा, पेट के निचले हिस्से में दर्द के अन्य कारण भी हो सकते हैं –

मूत्र पथ के संक्रमण यानी यूटीआई
किडनी स्टोन
गर्भाशय संबंधी विकार
लाेअर लोब निमोनिया, एक प्रकार का निमोनिया है, जो फेफड़े को प्रभावित करता है।
कोलेसिस्टिटिस (पित्ताशय की सूजन)
गैस्ट्रोएंट्राइटिस (आंत से जुड़ा संक्रमण)
वैस्कुलाइटिस यानी रक्त वाहिकाओं की सूजन

निचले पेट दर्द का निदान

निचले पेट दर्द का निदान करने के लिए नीचे बताए गए टेस्ट किए जा सकते हैं –

  • सीटी स्कैन : इसे टेस्ट के जरिए निचले पेट दर्द का कारण और इसकी गंभीरता की जांच की जा सकती है।
  • अल्ट्रासाउंड : सीटी स्कैन के अलावा, डॉक्टर अल्ट्रासाउंड के जरिए भी पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण का पता लगा सकता है। इसके अलावा, डॉक्टर एक्स-रे भी कर सकता है।
  • यूरीन टेस्ट : मूत्र मार्ग से जुड़े संक्रमण का पता लगाने के लिए डॉक्टर यूरीन टेस्ट भी कर सकता है।
  • लिंग और अंडकोष की जांच : पुरुषों में पेट के निचले हिस्से में दर्द का पता लगाने के लिए लिंग और अंडकोष की जांच भी की जा सकती है।
  • रक्त की जांच – किसी भी प्रकार के संक्रमण की जांच के लिए डॉक्टर ब्लड टेस्ट भी कर सकता है।

पेट के निचले हिस्से में दर्द से बचने के लिए कौन-कौन सी चीजों से बचना चाहिए

पेट के निचले हिस्से के दर्द को रोकने के लिए कुछ चीजों का परहेज किया जा सकता है, जैसे –

  • अल्कोहल का सेवन न करें, क्योंकि यह दर्द को बदतर बना सकता है।
  • बिना डॉक्टर की सलाह के किसी भी दवा का सेवन न करें।
  • कुछ समय के लिए शारीरिक संबंध से परहेज किया जा सकता है।
  • मसालेदार और देर से पचने वाले आहार का सेवन न करें, इससे मल त्यागने में समस्या हो सकती है।

Leave a Reply