नवजोत सिंह सिधू का जीवन परिचय व अनमोल वचन व शायरी|  

नवजोत सिंह सिद्धू एक जाने माने नेता, कॉमेडियन है. अपने तीखे बयान की वजह से ये हमेशा चर्चा में रहते है. अभी हाल ही में हुए पुलवामा अटैक में 40 जवानों को आतंकवादीयों ने अपना निशाना बनाया, जिसमें सभी शहीद हो गए. इसी विषय पर नवजोत सिंह ने एक प्रेस वार्ता के दौरान पाकिस्तान पर नरमी भरा बयान देते हुए कहा कि “गाली और गोली से कुछ नहीं होता, हमें बातचीत करके इसका समाधान निकालना चाहिए.” इस तीखे बयान के बाद सिद्धू की कांग्रेस पार्टी ने तो कुछ नहीं कहा, लेकिन टीवी पर चलने वाले उनके शो से उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया गया.

Navjot singh sidhu | Sidhu childhood

इस बयान के बाद ट्विटर में उनके खिलाफ मुहीम शुरू हो गई, सभी लोग #boycottsidhu लिखकर सिद्धू को कपिल शर्मा शो से बाहर करने की मांग करने लगे. बहुत से बड़े नेताओं, अभिनेताओं ने इसकी कड़े शब्दों में निंदा की. सोनी चैनल में चलने वाले कपिल शर्मा शो के मेकर्स को आनन्-फानन में मीटिंग बुलानी पड़ी, जिसके बाद यह फैसला लिया गया और सिद्धू को शो से बाहर कर दिया गया. शो में अब सिद्धू की जगह जज की भूमिका में अर्चना पूरण सिंह दिखाई देंगी. सिद्धू का पाकिस्तान में आना-जाना भी होता है, वे कई बार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से मिले है, जिसकी वजह से उन्हें आड़े हाथ लिया गया.

नवजोत सिंह सिधु को हम पूर्व क्रिकेटर होने के साथ ही एक नेता और टेलीविजन व्यक्तित्व के रूप में जानते है. दिसम्बर 1999 में क्रिकेट से सन्यास लेने के बाद वो राजनीति में शामिल हो गए थे. वे 2004 से 2014 तक अमृतसर से लोकसभा के सदस्य थे. वह अप्रैल 2016 में राज्य सभा के लिए बीजेपी से नामांकित भी हुए थे. हल ही में उन्होंने सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है और उन्होंने सितम्बर 2016 में एक नई पार्टी बनाई है जिसका नाम है आवाज़ ए पंजाब.

नवजोत सिंह सिधु का जन्म और शिक्षा

नवजोत सिंह सिधु का जन्म एक जाट सिख परिवार में 20 अक्टूबर 1963 को भारत के राज्य पंजाब के पटियाला में हुआ था. सिधु की प्रारंभिक स्कूली शिक्षा पटियाल के यादविंद्र पब्लिक स्कूल में हुई. कॉलेज की पढाई उन्होंने पंजाब युनिवर्सिटी के मोहिन्द्र कॉलेज, चंडीगढ़ से की. फिर कुछ समय के बाद अध्ययन करने के लिए सिधु मुम्बई आ गये, और उन्होंने मुम्बई के एचआर कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स एंड इकोनॉमिक्स से पढाई की.

नवजोत सिंह सिधु का पारिवारिक जीवन

उनके परिवार में उनके माता पिता के अलावा उनकी पत्नी और दो बच्चे है. उनके पिता का नाम भगवंत सिंह था वो एक क्रिकेटर थे. उनकी पत्नी का नाम नवजोत कौर सिधु है वह एक डॉ. है साथ ही वह पंजाब विधानसभा की पूर्व सदस्य रह चुकी है. उनके दो बच्चे एक बेटा है जिसका नाम करण है और एक बेटी है जिसका नाम राबिया है.

Navjot Singh Sidhu biography

सिख परिवार से होते हुए भी वे भारतीय हिन्दू धर्म का पालन करते हुए शाकाहारी है. सिधु न ही शराब का सेवन करते है और ना ही किसी भी तरह का ध्रूमपान करते है. इनके बारे में जानकारी नीचे तालिका में दर्शाई गई है-

नामनवजोत सिंह सिधु
उपनामसिक्सर सिधु, शेरी पाजी और स्विधू पाजी
व्यवसायराजनीति, क्रिकेटर और कमेंटेटर
उच्चाई6 फीट 2 इंच
वजन84 किलो ग्राम
शारीरिक बनावटसीना-42 इंच, बाइसेप्स 14 इंच
आँखों का रंगहल्का भूरा
बालों का रंगकाला
पसंदीदा क्रिकेटरसचिन तेंदुलकर
राशितुला राशि
नागरिकताभारतीय
धर्मसिख
वैवाहिक स्थितिविवाहित
सैलरी6 लाख
कुल कमाई15 करोड़
पतामुम्बई
पसंदइंटरनेट सर्फिंग और हमेशा कुछ नया सोचना और करना.

नवजोत सिंह सिधु का करियर

नवजोत सिंह सिधु का करियर विविधताओं से भरा है उन्होंने खेल जगत, राजनीति और मनोरंजन के क्षेत्र में भी अपना योगदान दिया है जिनका हम अलग अलग रूपों में वर्णन कर रहे है जो निम्नलिखित है-  

नवजोत सिंह सिधु का क्रिकेट में करियर Navjot Singh Sidhu cricketer

नवजोत सिंह ने अपने कैरियर की शुरुआत 18 साल की उम्र में प्रथम श्रेणी के क्रिकेटर के रूप में अपने मूल राज्य की तरफ से खेलकर की थी. उन्होंने अपने अन्तर्राष्ट्रीय करियर की शुरुआत 1983 में की थी.
12 नवम्बर 1983 में अहमदाबाद में हुए टेस्ट मैच में वेस्ट इंडीज के खिलाफ उन्होंने सिर्फ 19 रन बनाये थे. उसके बाद उन्होंने 1990 में मैच खेला और कोई भी विकेट नहीं लेने के कारण निकाल दिए गए थे.


1987 के भारत विश्व कप क्रिकेट में उन्होंने 73 रन बनाये इस बार उन्होंने कुल 5 मैचों में से 4 में अर्द्धशतक जडा था, लेकिन भारत इंग्लैण्ड के खिलाफ सेमीफाईनल में हार गया था.

उन्होंने अपना पहला वनडे शतक पाकिस्तान के खिलाफ शारजाह में लगाया था जोकि 1989 में हुआ था.

फिर इंग्लैंड के खिलाफ ग्वालियर में उन्होंने 134 रन बनाये थे, यह मैच 1999 में हुआ था. इस वक्त को उनके 16 साल के करियर का सबसे अच्छा वक्त कहा गया था. उसी वक्त उन्होंने सेवानिवृत्त होने का फैसला कर लिया.

श्रीलंका के खिलाफ उन्होंने 124 रन बनाये जिनमे उनके 8 छक्के शामिल थे. फिर ऑस्ट्रेलिया में पांच पारी में उन्होंने 415 रन बनाये. उन्होंने sherryontopp.com नामक एक वेवसाइट शुरू की, जिसमे खेल व्यक्तित्व, राजनीतिज्ञ और कमेंटेटर सभी लोग इस वेवसाइट पर अपने पक्ष रखते है. इसमें महान क्रिकेटर कपिल देव के साथ ही अमिताभ बच्चन जैसी शख्सियत भी शामिल है

नवजोत सिंह सिधु का कमेंटेटर के रूप में करियर

सिधु ने एक कमेंटेटर के रूप में अपने करियर की शुरुआत 2001 में भारतीय टीम के श्रीलंका दौरे से किया था. एक कमेंटेटर के रूप में उन्हें उनके एक लाइन की टिपण्णी के लिए सिधुइज्मस कहा जाता था. कमेंटेटर के रूप में उन्होंने इएसपीएन स्टार स्पोर्ट्स पर काम किया, और एक अपवादित टिप्पणी की वजह से इएसपीएन ने उन्हें निष्कासित कर दिया था.

नवजोत सिंह सिधु का टेलीविजन में करियर

भारतीय टेलीविजन के कार्यक्रम ‘द ग्रेट इन्डियन लाफ्टर चैलेन्ज’ में उन्होंने शेखर सुमन के साथ जज की भूमिका निभाई है. वह कलर्स पर आने वाले शो ‘कॉमेडी नाइट्स विथ कपिल शर्मा शो’ में भी जज की भूमिका में दिख चुके हैं. इस शो को कपिल शर्मा होस्ट करते थे. फिलहाल वे कपिल शर्मा के ही शो ‘द कपिल शर्मा शो’ में जज की भूमिका में हैं. इसके आलावा वो एक अन्य कार्यक्रम ‘फनबाजी चक दे’ में भी दिख चुके है

नवजोत सिंह सिधु का फिल्मों में करियर

टेलीवीजन के साथ ही उन्होंने फिल्मों में भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है वो सलमान खान की फिल्म ‘मुझसे शादी करोगी’ में दिख चुके हैं. इसके अलावा वे पंजाबी फ़िल्म में अभिनय भी कर चुके है उस फिल्म का नाम है ‘मेरा पिंड’, इसमें इनके साथ पंजाबी गायक हरभजन मान, राना रणवीर और गुरप्रीत घुग्गी जो कि एक हास्य कलाकार है उन्होंने भी अभिनय किया है. इस फिल्म में उन्होंने एक एनआरआई नर्वोज़ सिंह लम्बा के पात्र को निभाया था. यह फिल्म 20 सितम्बर 2008 को रिलीज हुई थी. सिधु ने फिल्म ‘एबीसीडी 2’ में एक कैमियों के रूप में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी.

नवजोत सिंह सिधु का राजनीति में करियर

नवजोत सिंह सिधु ने 2004 के भारतीय आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर अमृतसर से जीत हासिल की थी. फिर अदालत में उनके खिलाफ मामला चलने की वजह से उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था. इसके बाद फिर उन्होंने बहुमत से उपचुनाव में जीत हासिल कर यह सिद्ध कर दिया था कि जनता के बीच अब भी उनकी गहरी पैठ है

सिधु ने 28 अप्रैल 2016 को राज्यसभा के सदस्य के रूपमें शपथ ग्रहण की थी, लेकिन कुछ ही महीनों के बाद 18 जुलाई 2016 को राजसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था. उसके बाद उन्होंने परगट सिंह और बैंस के साथ मिलकर एक नई पार्टी का गठन किया जिसका नाम उन्होंने ‘आवाज़ ए पंजाब’ रखा.

नवजोत सिंह सिधु अवार्ड और उपलब्धियां

नवजोत सिंह सिधु ने कुल 51 टेस्ट मैच खेले है, जिनमे उन्होंने 3202 रन बनाये है. और वनडे मैच उन्होंने 136 खेले है जिसमे उन्होंने 4413 रन बनाये है. उन्होंने अपना अंतिम टेस्ट मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ 6 जनवरी 1999 मे खेला था और अंतिम वनडे मैच 20 सितम्बर 1998 को पाकिस्तान के खिलाफ खेला था.

  • 1993, 1994 और 1995 उन्होंने इस प्रत्येक साल में 5 – 5 सौ से अधिक रन बनाये.
  • 1994 में वनडे में उनका स्कोर 884 था. सिधु पहले ऐसे भारतीय बल्लेबाज है जिन्होंने अन्तर्राष्ट्रीय वनडे क्रिकेट में 5 शतक लगाये हुए है.
  • 1996 से 1997 में 11 घंटे के अन्तराल पर ही उन्होंने वेस्ट इंडीज के खिलाफ 201 रन बनाये थे.

नवजोत सिंह सिधु के चर्चित अनमोल वचन

  1. जब भी आप बॉल को फेकते है तो आप उसे एक जुए में पासे की तरह फेकते है, आपको यह पता नहीं होता कि यह कैसा होगा और आप ये हमेशा सोच भी नहीं सकते है कि 6 ही आएगा.
  2. उस व्यक्ति पर कभी भी भरोसा नहीं करना चाहिए जो खुद नग्न अवस्था में हो और आपको अपनी कमीज उतार के दे रहा हो ऐसे व्यक्ति से सावधान रहना चाहिए.
  3. कोई भी व्यक्ति जब सड़क पर यात्रा करता है तो उसको अपनी जिन्दगी में एक या दो पंचर का सामना करना ही पड़ता है, जब तक आप इस तरह की मुस्किल का सामना नही करते आपकी यात्रा सफलता के साथ पूरी हो ही नहीं सकती.
  4. अगर आप किसी भी काम के लिए जोखिम को उठाते है तो आपको सफलता जरुर मिलेगी. जीवन में सफ़लता पाने के लिए हमेशा नए विचार और साहसिक कदम उठाने ही पड़ते है इनके बिना सफल होना मुश्किल है.
  5. जिन्दगी से मिले अनुभव एक कंघी की तरह है जब सिर के सारे बाल निकल जाते है अर्थात आप गंजे हो जाते है, तब आपको जीवन के हर एक अनुभव को जीने का अहसास होता है और ये अहसास आपको जीवन देता है.


Leave a Reply