ओपरा विनफ़्रे का जीवन परिचय

ओपरा विनफ़्रे एक अमरीकी मिडिया उद्योजक, वार्ता शो मेज़बान, अभिनेत्री, निर्माता व लिपिकार है। विनफ़्रे को उनके स्वयं के नाम के कई पुरस्कार विजेता शो के कारण जाना जाता है।20वि सदी की अमेरिका की सबसे रइस अफ़्रीकी अमरीकी लिपिकार होने का सम्मान प्राप्त है और एक काल में वे विश्व की अकेली अश्वेत अरबपति थी। कुछ जानकारों के अनुसार वे विश्व की सबसे प्रभावकारी महिलाओं में से एक है। तो आइए जानते हैं ओपरा विनफ़्रे की जीवन की कहानी ।

ओपरा विनफ्रे का जन्म

ओपरा विनफ़्रे को अपनी जिंदगी में कई परिस्थिति का सामना करना पड़ा। इन्हे शुरुवात से ही कई परेशानियां को झेलना पड़ा। ओपरा विनफ़्रे का जन्म 29 जनवरी 1954 को हुआ। ओपरा के पिता वर्नन विनफ्रे और मां वर्निटा।वे एक अविवाहित मां के द्वारा जन्मी। ओपरा के बचपन का नाम ओरपा था, जो “बुक आफ रूप” से लिया गया था। किंतु लोगों द्वारा ओरपा की जगह ओपरा बुलाया जाने लगा तो परिवार वालों ने ओपरा ही नाम अपना लिया। ओपरा की मां हेल्पर के रुप में काम करती थी। आर्थिक कमी के कारण वे ओपरा का पालन पोषण करने में असमर्थ थीं। इसलिए उन्होंने ओपरा को उसकी नानी के पास भेज दिया। ओपरा की नानी धार्मिक महिला थीं। वह ओपरा को गिरजाघर ले जाया करती थीं। इस तरह ईश्वरीय वचन सुनकर ओपरा बड़ी होने लगी।

ओपरा विनफ्रे का पालन पोषण

अश्वेत ओपरा के मन में भी वैसे ही सपने पलने लगे जैसे किसी श्वेत अमीर बच्ची के। घर पर ही नानी ने ढेर सारी ज्ञान वर्धक बातें बताकर तथा किताबें पढ़ाकर बहुत योग्य बना दिया था। जब वे स्कूल में पहली बार KG में गई तो ओपरा ने अपनी क्लास टीचर को पत्र लिखकर कहा कि मैं क्लास एक में पढ़ने लायक हूं। उनके इस साहस को देखकर उन्हें पहले दिन ही कक्षा एक में दाखिल कर लिया गया। तीन वर्ष की आयु में ही ओपरा के बोलने का तरीका इतना प्रभावपूर्ण था कि सब उन्हें “द प्रीचर” यानी उपदेशक के नाम से बुलाते थे। जब उन्होंने ईस्टर पर चर्च में बोला तो हर किसी पर उनका जादू छा गया था।नानी के सानिध्य और पथ प्रदर्शन में उनका व्यक्तित्व सुंदर चल रहा था। लेकिन किस्मत को और कुछ ही मंजूर था।नानी की धन अभाव और बीमारी की वजह से छः वर्ष की उम्र में नानी ने ओपरा को उनकी मां के पास भेज दिया।जिसके बाद ओपरा को अपनी मां के साथ रहने लगी। किंतु उनकी मां काम की वजह से बाहर रहती थी। इसलिए ओपरा विनफ़्रे को सारा दिन अकेले ही रहना पड़ता था। और मात्र नौ साल की उम्र में ओपरा को शारीरिक शोषण से गुजरना पड़ा। जब मां से शिकायत की तो उनपर झूठ बोलने का आरोप लगाया गया। बच्ची से किशोरी हो रही ओपरा पर नकारात्मक माहौल का बुरा असर पड़ा। वह इस नारकीय जीवन से दूर जाना चाहती थीं। उनके व्यवहार में अजीबोगरीब तब्दीली आ गई। आखिरकार चौदह वर्ष की आयु में मां के पर्स से पैसा चुराकर घर से भाग गईं। हांलांकि उनकी मां ने उनको ढूंढ लिया। ओपरा के उग्रवादी व्यवहार से दुखी हो कर उनकी मां ने ओपरा को पिता वर्नन विनफ्रे के पास भेज दिया। गौरतलब है कि ओपरा के माता-पिता अलग-अलग रहते थे।

पिता का साथ व शिक्षा

पिता की छत्र-छाया में ओपरा की जिंदगी ने नई सुबह का आगाज़ किया। ये लाइफ का ऐसा टर्निंग प्वाइंट था, जिससे जिंदगी को नया आयाम मिला। पिता ने अपनी सुरक्षा में अनुशासन में रहना सिखा दिया। ओपरा की शिक्षा पिता वर्नन की प्राथमिकता थी, ओपरा ने भी अपने जीवन में आये इस सकारात्मक बदलाव को स्वीकार किया। पूरी लगन से पढ़ाई करने लगी और बहुत जल्द ही सभी टिचर्स की पहली पसंद बन गई। पिता की सीख और सुरक्षा में ओपरा अपना अतीत भूलकर आगे बढ़ने लगी।

उनका कहना था कि, वो पिता वर्नन विनफ्रे ही थे जिन्होंने अभाव में भी जीवन को सही आकार और आत्मविश्वास दिया।

स्कूल में हो रही सभी गतिविधियों में वो भाग लेने लगीं। नाटक हो या डिबेट सब में अव्वल रहने लगीं। एक भाषण प्रतियोगिता में ओपरा ने टैनेसी स्टेट यूनिवर्सिटी के लिए स्कालरशिप जीती। उसके अगले साल ओपरा को यूथ कांफ्रेंस में व्हाईट हाउस जाने का अवसर मिला। जिंदगी में सम्मान की बारिश होने लगी। उन्होंने नैशविल के स्थानीय रेडियो स्टेशन से “मिस फायर प्रिवेंशन” प्रतियोगिता जीती जिससे उनको दोपहर का समाचार पढ़ने का मौका मिला।अपनी आवाज और बोलने की अद्भुत शैली के कारण वे आसमान की बुलंदियों पर उड़ने लगी। एक के बाद एक उपलब्धियों से उनका व्यक्तित्व और निखरने लगा। पिता द्वारा रोपित आत्मविश्वास का पौधा एक पेड़ में परिवर्तित हो गया था।पिता की महत्वाकांक्षा ने इन्हें स्नातक की उपाधि मात्र से ही संतुष्ट नहीं होने दिया। ओपरा ने मीडिया और पत्रकारिता में भी रुचि लेना शुरू किया। इन्होंने आनर्स छात्रा के रूप में स्नातकीय उपाधि प्राप्त की थी।

ओपरा विनफ्रे का टेलीविजन की दुनिया में करियर

स्थानीय मीडिया में काम करना, वह नैशविले के डब्लूएलएसी-टीवी में सबसे कम उम्र के समाचार एंकर और पहली काली महिला समाचार एंकर थीं। वह 1 9 76 में बाल्टिमोर के डब्लूजेज़-टीवी में चले गए और छह बजे खबर के सह-एंकर रही। 1977 में, उन्हें सह-एंकर के रूप में हटा दिया गया था और स्टेशन पर निम्न प्रोफ़ाइल पदों पर काम किया था। उसके बाद वह 14 जून 1 9 78 को प्रीमियर हुआ डब्लूजेड के स्थानीय टॉक शो पीपेल हो टॉकिंग के सह-मेजबान के रूप में रिचर्ड शेर को शामिल करने के लिए भर्ती कराया गया। उन्होंने वहां डायलिंग फॉर डलरर्स के स्थानीय संस्करण की मेजबानी की।

1983 में, डब्ल्यूएलएस-टीवी के कम-रेटेड आधे घंटे की सुबह के टॉक शो, एएम शिकागो की मेजबानी करने के लिए, विनफ्रे शिकागो में जगह ले गई। पहला एपिसोड 2 जनवरी 1 9 84 को प्रसारित हुआ। विन्फ्रे ने पद संभालने के कुछ महीनों बाद, यह शो रेटिंग में आखिरी स्थान पर चला गया और डोनह्यू को शिकागो में उच्चतम दर्जा वाले टॉक शो के रूप में आगे बढ़ा। फिल्म समीक्षक रोजर एबर्ट ने उन्हें राजा विश्व के साथ एक सिंडिकेशन सौदे पर हस्ताक्षर करने के लिए प्रेरित किया एबर्ट ने भविष्यवाणी की थी कि वह अपने टेलीविज़न शो, एट द मूवीज के रूप में 40 गुना अधिक राजस्व उत्पन्न करेगी। इसका नाम बदलकर ओपरा विन्फ्रे शो का विस्तार, एक पूर्ण घंटे तक बढ़ाया गया और राष्ट्रीय स्तर पर 8 सितंबर 1 9 86 को प्रसारित किया गया। विन्फ्रे के सिंडिकेटेड शो ने डबल डोनाह्यू के राष्ट्रीय श्रोताओं में लाया, जो अमेरिका में संख्या-एक दिन के टॉक शो के रूप में डोनह्यू को स्थानांतरित कर रहा था। उनके बहुत प्रचारित प्रतियोगिता में भारी जांच का विषय था।

ओपरा विनफ्रे शो

1984 में इन्होंने शिकागो में ‘एम शिकागो’ नामक कार्यक्रम की मेजबानी भी की। एक वर्ष बाद इस शो को ‘द ओपरा विनफ्रे शो’ का नाम दिया गया ओपरा द्वारा conceptualize और बनाया गया अमेरिकी इतिहास के सबसे प्रसिद्द डे टाइम टॉक शो “The Oprah Winfrey Show” ने करोड़ों अमेरिकियों और दुनिया भर के दर्शकों का दिल जीत लिया और लम्बे समय तक ओपरा को शौहरत पर दौलत के उस मुकाम पर बनाए रखा जिसे आज भी कोई चुनौती नहीं दे पाया है.इस शो की शुरुआत में ओपरा ने महिलाओं से जुड़े मुद्दों को उठाया गया। हालांकि बाद में ओपरा ने इसमें कई और विषय शामिल किए, जैसे- आध्यात्म, राजनीति, सामाजिक, चिकित्सा और मेडिटेशन। साथ ही इस शो को लोकप्रिय बनाने के लिए इसमें किताबों का लोकार्पण, महत्त्वपूर्ण हस्तियों के साक्षात्कार तथा फिल्म का प्रमोशन भी होने लगा। इस शो की सफलता से ओपरा अमेरिका में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में एक जाना माना नाम बन गई।ओपरा के प्रेम का एक हिस्सा उनके पालतु कुत्तों सोफी और सोलोमन को भी जाता है। कुछ एक बार तो सोफी और सोलोमन को वे अपने शो में भी लाती थीं। ओपरा अपने शो में, पिड़ितो के साथ हंसी और उनकी पीड़ा में पीड़ित भी हो जाती है। उनके अपने दुःख भी उघड़े मगर उन्होंने अपने सच और दूसरों के सच को जीवन में लड़ने का हथियार बना लिया।

उनका कहना था कि- बोलो और बांटो इसी से दुख कम होगा।

ओपरा विनफ्रे का मैगज़ीन

  • द ओपरा पत्रिका
  • ओ ‘होम की लॉन्चिंग

ओपरा विनफ्रे का फिल्मों का निर्माण

  • द वुमन ऑफ ब्रूस्टर प्लेस
  • देयर आर नो चिल्ड्रेन हियर
  • बिफोर वुमन हैड विंग्स
  • बीलव्ड

ओपरा विनफ्रे को मिले पुरस्कार व उपलब्धियां

  • अपनी आवाज को औजार बनाने वाली ओपरा ने –
  • 1986 में शिकागो एकेडमी फॉर द आर्ट्स का एक बड़ा अवार्ड जीता, जिसे वुमन ऑफ अचीवमेंट का नाम दिया गया। इसके बाद तो अवार्ड की ऐसी लाइन लग गई जो निरंतर जारी है।
  • 1987 में उनके शो को तीन डे टाइम एमी अवार्ड प्राप्त हुआ-
  • बेस्ट होस्ट
  • बेस्ट डायरेक्शन
  • बेस्ट टाक शो
  • साथ ही उन्हें अंतरराष्ट्रीय रेडियो और टेलीविजन सोसायटी का ब्रॉडकास्टर अॉफ द ईयर से सम्मानित किया गया।
  • उनके शो को डे टाइम एमी अवार्ड से सम्मानित किया गया।
  • 2011 में समाज से जुड़े हुए होने के कारण एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर्स आर्ट्स एंड साइंस ने उन्हें विशेष ऑस्कर द जीन हरशॉल्ट ह्यूमनेटेरियन अवार्ड से अलंकृत किया।
  • टाइम मैगजीन द्वारा बीसवीं शताब्दी की सौ सबसे सशक्त व्यक्तियों में उन्हें शामिल किया गया।
  • 2013 में फोर्ब्स पत्रिका में विश्व केअरबपतियों की सूची में स्थान दिया। ओपरा विनफ्रे इस सूची में सम्मलित होने वाली पहली एफ्रो अमेरिकन महिला हैं।
  • 2013 में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ओपरा को देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान” प्रेसिडेंशियल मेडल ऑफ फ्रीडम से विभूषित किया।

Leave a Reply