Budget 2022 : कब और कहां पेश किया जाएगा बजट?जानिए संपूर्ण जानकारी….

Budget 2022

हर साल की तरह इस बार भी भारतीय बजट का सत्र शुरू हो चुका है। बजट के जरिए यह तय करने की कोशिश की जाती है, सरकार अपने राजस्व की तुलना में खर्चे को किस हद तक बढ़ा सकती है। गौरतलब है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार 31 जनवरी 2022 को संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित किया, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को वित्त वर्ष 2022-23 का केंद्रीय बजट पेश करेंगी।

आखिर बजट कब पेश किया जाएगा? बजट को कहां पेश किया जाएगा? कितने घंटे का होगा सत्र? आखिर बजट कितने चरणों में पेश किया जाएगा? इस बार के बजट का उद्देश्य क्या है? बजट से क्या उम्मीदें हैं? इसके बारे में सामान्य जानकारी जरूर रखनी चाहिए। आपके मन में उठ रहे इन सभी सवालों के जवाब आपको इस वेबसाइट के माध्यम से मिल जाएंगे। बने रहिए अंत तक इस लेख के साथ।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण संसद में 1 फरवरी को आम बजट (Budget 2022) पेश करेंगी। कोरोना महामारी को देखते हुए लोगों की उम्मीदें पहले से ज्यादा बढ़ गई हैं। क्योंकि कोरोना महामारी के चलते लाखों युवाओं ने अपनी नौकरियां गवा दी, जिसके चलते लाखों उम्मीदवार बेरोजगार बैठे हैं। हर दिन नए नए बदलावों को देखते हुए कारोबारी और व्यापारी वर्ग को आशा है कि उनके बिजनेस और कल-कारखानों को उबारने के लिए सरकार कुछ खास प्रावधान करेगी। आर्थिक प्रगति को दौड़ाने के लिए नई-नई योजनाएं और फंडिंग मिलेंगी। हेल्थ बजट के लिए सरकार अधिक पैसे दे सकती है जैसा कि पिछले बजट में किया गया था। इस बार का बजट भी पिछले की तरह पूरी तरह से डिजिटल होगा और बजट कॉपी के पुलिंद नहीं दिखेंगे। पहले बजट वाले दिन संसद भवन के बाहर बजट पेपर की बड़ी-बड़ी गठरी दिखती थी। अब यह पूरी तरह से ‘ग्रीन’ हो गया है और डिजिटल बजट हो गया है। कुछ ही कॉपी छपती है, बाकी बजट मोबाइल ऐप पर पढ़ना होता है। सरकार के लिए बजट एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है इसलिए वित्त मंत्री ब्रिफकेस में बजट लेकर नहीं चलतीं बल्कि ‘बही-खाते’ वाले लाल झोले में टैबलेट लेकर चलती हैं।

आपको बता दें बजट सत्र दो भागों में होगा – बजट सत्र का पहला भाग 11 फरवरी को समाप्त होगा, बजट सत्र का दूसरा भाग 14 मार्च को शुरू होकर 8 अप्रैल को समाप्त होगा।

Budget 2022: तारीख और समय

केंद्रीय वित्त मंत्री 1 फरवरी को सुबह 11 बजे संसद में बजट पेश करेंगी। बजट भाषण चलने की संभावना 1:30 घंटे से 2 घंटे के बीच है। हालांकि, भाषण पढ़ने की अवधि सामान्य समय से अधिक भी हो सकती है। साल 2020 में 2 घंटे 40 मिनट तक चलने वाला बजट भाषण देश के इतिहास में सबसे लंबा था।

Budget 2022: कहां देखें बजट

अगर आप बजट 2022 का भाषण सुनना या देखना चाहते हैं, वह भी लाइव तो संसद टीवी का रुख कर सकते हैं।लगभग सभी प्राइवेट न्यूज चैनल इसे चलाते हैं, लेकिन वहां आपको विज्ञापन से जूझना होगा। इससे बचना है तो DD न्यूज पर लाइव बजट देख सकते हैं। इसके अलावा जैसा कि आप जानते हैं सोशल मीडिया कितनी तेजी से खबर को एक जगह से दूसरी जगह तक पहुंचाने का सबसे बेहतरीन मीडिया है। उसी तरह बजट प्रेजेंटेशन को सोशल मीडिया वेबसाइट जैसे कि यूट्यूब और ट्विटर पर भी देख सकते हैं।

Budget 2022: बजट सत्र की डिटेल

बजट सत्र की शुरुआत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण से होगी। 31 जनवरी को राष्ट्रपति सदन के दोनों सदनों को संबोधित किया है। यह सत्र दो भाग में आयोजित होगा-पहला हिस्सा बजट सत्र का होगा जो कि 11 फरवरी को समाप्त होगा। बजट सत्र का दूसरा हिस्सा 14 मार्च को शुरू होगा और 8 अप्रैल को खत्म होगा।

आर्थिक सर्वेक्षण

बजट से पहले सरकार आर्थिक सर्वेक्षण जारी करती है। आर्थिक सर्वेक्षण देश की आर्थिक सेहत का लेखा-जोखा होता है। इसके जरिए सरकार देश को अर्थव्यवस्था की हालत के बारे में बताती है। इसमें साल भर में विकास का क्या ट्रेंड रहा? किस क्षेत्र में कितनी पूंजी आई? विभिन्न योजनाएं किस तरह लागू हुईं इत्यादि इन सभी बातों की जानकारी होती है। इस बार 31 जनवरी को आर्थिक सर्वेक्षण जारी किया जाएगा। यह सर्वेक्षण संसद की पटल पर रखा जाएगा। इस सर्वे में पिछले एक साल का पूरा हिसाब होता है। मौजूदा अर्थव्यवस्था में क्या चुनौतियां हैं और उससे कैसे निपटना है, इसके बारे में सर्वे में जानकारी दी जाती है।

Budget 2022: क्या है उम्मीद

बजट से पहले सरकार आर्थिक सर्वेक्षण जारी करती है। आर्थिक सर्वेक्षण देश की आर्थिक सेहत का लेखा-जोखा होता है। इसके जरिए सरकार देश को अर्थव्यवस्था की हालत के बारे में बताती है। इसमें साल भर में विकास का क्या ट्रेंड रहा? किस क्षेत्र में कितनी पूंजी आई? विभिन्न योजनाएं किस तरह लागू हुईं इत्यादि इन सभी बातों की जानकारी होती है। इस बार 31 जनवरी को आर्थिक सर्वेक्षण जारी किया जाएगा। यह सर्वेक्षण संसद की पटल पर रखा जाएगा। इस सर्वे में पिछले एक साल का पूरा हिसाब होता है। मौजूदा अर्थव्यवस्था में क्या चुनौतियां हैं और उससे कैसे निपटना है, इसके बारे में सर्वे में जानकारी दी जाती है।

  • साल केंद्र सरकार का ध्यान COVID-19 महामारी से अर्थव्यवस्था को उबारने और देश के आर्थिक स्थिति को सुधार करने में है।
  • देश की स्वास्थ्य प्रणाली को मजबूत करने के उपायों की घोषणा होने की भी उम्मीद है।
  • इस बार बीमा क्षेत्र पर भी ध्यान दिया जा सकता है, साथ ही मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री को राहत प्रदान की जा सकती है।
  • इस साल करदाताओं को भी टैक्स दरों और सेस में कमी की उम्मीद है।
  • टैक्सपेयर्स भी इस साल स्टैंडर्ड डिडक्शन और रिवाइज्ड टैक्स स्लैब में बढ़ोतरी की उम्मीद कर रहे हैं।
  • खुदरा क्षेत्र या फिनटेक जैसे उद्योग आसान कंप्लायंस नॉर्म की उम्मीद कर रहे हैं।

Leave a Reply