History Of India|Facts|Map|Location and more 

भारत में प्राचीन काल से ही कई बड़े बदलाव व मूमेंट के प्रमाण मिलते हैं। जिसके कारण यहां पर कई सभ्यताओं ने जन्‍म लिया और समय के साथ उनका पतन हुआ। सभ्‍यता के साथ यहां पर कई धर्मों का भी उदय हुआ। हिंदू धर्म के साथ ही यहां बौद्ध धर्म, इस्लाम, ईसाई धर्म और पारसी धर्म विकसित हुए।

भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था, तब यहां पर कई यूरोपीय देश व्यापार के लिए आते थे, उनमें से ही एक थे ब्रिटिश, जो आए व्यापार करने, लेकिन इस देश पर कब्‍जा कर लिया। अंग्रेजों के साथ लंबी लड़ाई के बाद देश को अंततः स्वतंत्रता मिली। आज हम आपको बताएंगे भारत के इतिहास से जुड़ी ऐसी जगहों के बारे में, जो इसके गवाह हैं।

हम्पी के खंडहर
हम्पी मध्यकालीन हिंदू राज्य विजयनगर साम्राज्य की राजधानी थी। तुंगभद्रा नदी के तट पर स्थित यह नगर अब हम्पी नाम से जाना जाता है। यहां अब केवल खंडहरों के रूप में ही अवशेष है, जो इसके भव्‍यता के प्रतीक हैं। इन्हें देखने से प्रतीत होता है कि किसी समय में यहां एक समृद्धशाली सभ्यता निवास करती होगी। भारत के कर्नाटक राज्य में स्थित यह नगर यूनेस्को के विश्व के विरासत स्थलों में शामिल किया गया है।


दिल्ली है हर सल्तनत का गवाह

दिल्‍ली इतिहास में हर सल्‍तनत की गवाह रही है। यहां पर तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में मौर्यों से लेकर मध्ययुगीन काल की सल्तनत, मुगल और अंग्रेजों को विजेता के रूप में देखा है। यहां पर राज करने वाले सभी ने अपने प्रभावशाली अवशेष छोड़े हैं जो आज भी इस आधुनिक शहरी फैलाव के बीच मजबूती से खड़े हैं। इनमें लाल किला और हुमायूं का मकबरा दिल्ली में मुगल वास्तुकला के बेहतरीन उदाहरणों में से हैं।

राजाओं की राजधानी कोलकाता

एक छोटे से पूर्वी-तटीय व्यापारिक समझौते के कारण अपनी शुरुआत से ही कोलकाता (पूर्व में कलकत्ता) व्‍यापार का प्रमुख केंद्र रहा। जिसके कारण एक समय में यह शहर महलों का शहर बन गया। इसके इतिहास की शुरूआत सन् 1686 में तब शुरू हुआ, जब ईस्ट इंडिया कंपनी ने अपने नए मुख्यालय के लिए कोलकाता का चयन किया था। यहां मौजूद सफेद संगमरमर का विक्टोरिया मेमोरियल भारत में किसी भी अन्य इमारत की तुलना में आज भी बेहतर है। यह इमारत ब्रिटिश राज के अपने गौरव और भव्यता का प्रतीक है।

  1. आरंभिक इतिहास- ई.पू. के बीच हड़प्पा (सिंधु घाटी) सभ्यता।
  2. 1600 ई.पू. से आगे- मध्य एशियाई आर्य भारतीय उपमहाद्वीप में बसते हैं।
  3. 563 ई.र्पू- सिद्धार्थ गौतम (बुद्ध) का जन्म।
  4. 325 ई.र्पू.- चंद्रगुप्त मौर्य ने मौर्य साम्राज्य की स्थापना की।
  5. 260 ई.पू.- सम्राट अशोक ने बौद्ध धर्म अपना लिया।
  6. 320 ई.- गुप्त साम्राज्य की स्थापना हुई।
  7. 1200 ई.- मुस्लिम सेनाएं उत्तरी भारत पर विजय प्राप्त कर बौद्ध धर्म का पतन करती हैं ।
  8. 1206 ई.- कुतुब-उद-दीन दिल्ली का सुल्तान बना। उनके वंश को 1296 ई. में एक तुर्क फ़िरोज़ शाह ने उखाड़ फेंका और लाल कोट के पूर्व में दिल्ली का दूसरा शहर बसाया है।
  9. 1451 ई.- अफगान आक्रमणकारी बहलोल लोदी दिल्ली के सिंहासन पर कब्जा करता है और लोधी वंश की स्थापना करता है।
  10. 14वीं-16वीं ई.- इस्लाम धर्म पूरे उत्तर भारत में स्थापित होता है। दक्षिण हिंदू विजयनगर राजवंश के तहत स्वतंत्र रहते हैं।

Interesting facts

भारत के बारे में रोजाना आप कुछ न कुछ नया जरूर पढ़ते होंगें। क्या आपको पता है कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र देश है और सातवां सबसे बड़ा देश है।

  • भारत के पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम के सम्मान में 26 मई को स्विट्जरलैंड में विज्ञान दिवस मनाया जाता है। इसी दिन राष्ट्रपति अब्दुल कलाम ने स्विट्जरलैंड का दौरा भी किया था।
  • इंडिया नाम की उत्पत्ति इंड्यूस नामक नदी से हुई है। जो कि इंड्यूस वैली की घाटियों में बहती थी।
  • . भारत की सेना अमेरिका और चीन के बाद तीसरे नंबर में आती है। भारत के पास विश्व की तीसरी सबसे बड़ी सेना है।
  • भारत देश दुनिया में सबसे बड़े आकर वाले देशों की लिस्ट में सातवें नंबर में आता है।
  • भारत के कुंभ मेले का जमावड़ा इतना बड़ा होता है कि इसे अंतरिक्ष से भी देखा जा सकता है।
  • हिंदी के बाद सबसे ज्यादा यहां अंग्रेजी बोली जाती है। भारत दुनिया का 24 वां ऐसे देश है जहां अंगेजी सबसे ज्यादा बोली जाती है।
  • भारत का पहला रॉकेट साईकल पर और उपग्रह को बैलगाड़ी पर लाया गया था।8. भारत के केरल में दुनिया की सबसे बड़ी डाक व्यवस्था है।
  • भारत देश की पवित्र नगरी वाराणसी दुनिया की सबसे पुरानी नगरी है।
  • . शतरंज खेल की खोज भारत में ही हुई थी।
  • . दुनिया का सातवां अजूबा भी भारत में है जिसे ताजमहल कहा जाता है। आगरा के ताजमहल को मुग़ल शासक ने अपनी बेगम मुमताज की याद में बनवाया था।
  • . भारत ने दुनिया तक योग पहुंचाया है, योग 5000 वर्ष से भी ज्यादा पुराना है।
  • . दुनिया का सबसे बड़ा रोड नेटवर्क भारत के पास है जो तकरीबन 1.9 मिलियन मील को एक-साथ आपस में जोड़ते हैं।
  • . भारत का मेघालय राज्य दुनिया का सबसे ज्यादा बारिश वाला राज्य है।
  • . भारत का स्थान सुपर कंप्यूटर बनाने में तीसरे नंबर में है।16. सन 1986 तक भारत अकेला ऐसा देश माना जाता है जहां आधिकारिक रूप से हीरा पाया जाता था।17.KFC जैसे बड़े ब्रांड ने भारतियों के लिए अलग शाकाहारी मेनू लागू किया था।

Map of India


भारत का राष्ट्रीय ध्वज|National Flag of India

भारत का राष्ट्रीय ध्वज एक राष्ट्रीय प्रतीक है जिसे क्षैतिज आयताकार में बनाया गया है। इसे तीन रंगों की मदद से सजाया गया है जिसमें गहरा केसरिया (सबसे ऊपर), सफेद( बीच में) और हरा (सबसे नीचे)। सफेद रंग के बीचों-बीच एक नीले रंग का अशोक चक्र (अर्थात कानून का चक्र) बना हुआ है जिसमें 24 तिलियाँ है।

22 जुलाई 1947 में भारत के संविधान सभा ने एक मीटिंग में राष्ट्रीय ध्वज के वर्तमान स्वरुप को स्वीकार किया था। भारत के सत्ताधारियों द्वारा वर्तमान राष्ट्रीय ध्वज को अधिकारिक रुप से स्वीकार किया गया था। तीन रंगों का होने के कारण इसे तिरंगा भी कहा जाता है। ये स्वराज ध्वज पर आधारित है (अर्थात भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस का ध्वज, पिंगाली वेंकैया द्वारा रुपांकित)।

भारतीय ध्वज का अर्थ और महत्व

तीन रंगों में होने की वजह से भारतीय ध्वज को तिरंगा भी कहते है। ख़ादी के कपड़ों, बीच में चक्र और तीन रंगों का इस्तेमाल कर भारतीय ध्वज को क्षितिज के समांतर दिशा में डिज़ाइन किया गया है। ब्रिटीश शासन से भारतीय स्वतंत्रता के परिणाम स्वरुप 22 जुलाई 1947 को राष्ट्रीय ध्वज को स्वीकार किया गया था। इसकी लम्बाई और चौड़ाई का अनुपात क्रमशः २:३ होता है। आजादी और राष्ट्रीयता के प्रतीक के रुप में भारतीय ध्वज को बनाया और स्वीकार किया गया।

हमारे लिये भारतीय ध्वज का बहुत महत्व है। अलग-अलग विचारधारा और धर्म जैसै हिन्दू, मुस्लिम, सिक्ख, ईसाई आदि का होने के बावजूद भी ये सभी धर्मो को एक राह पर ले जाता है और हमारे लिये एकता के प्रतीक के रुप में है। इसमें मौजूद तीन रंग और अशोक चक्र का अपना अर्थ है जो इस प्रकार है:

केसरिया रंग
राष्ट्रीय ध्वज का सबसे ऊपरी भाग केसरिया रंग है; जो बलिदान का प्रतीक है राष्ट्र के प्रति हिम्मत और नि:स्वार्थ भावना को दिखाता है। ये बेहद आम और हिन्दू, बौद्ध और जैन जैसे धर्मों के लिये धार्मिक महत्व का रंग है। केसरिया रंग विभिन्न धर्मों से संबंधित लोगों के अहंकार से मुक्ति और त्याग को इंगित करता है और लोगों को एकजुट बनाता है। केसरिया का अपना अलग महत्व है जो हमारे राजनीतिक नेतृत्व को याद दिलाता है कि उनकी ही तरह हमें भी किसी व्यक्तिगत लाभ की इच्छा के पूरे समर्पण के साथ राष्ट्र की भलाई के लिये काम करना चाहिये।

सफेद रंग
राष्ट्रीय ध्वज के बीच का भाग सफेद रंग से डिज़ाइन किया गया है जो राष्ट्र की शांति, शुद्धता और ईमानदारी को प्रदर्शित करता है। भारतीय दर्शन शास्त्र के मुताबिक, सफेद रंग स्वच्छता और ज्ञान को भी दर्शाता है। राष्ट्र के मार्गदर्शन के लिये सच्चाई की राह पर ये रोशनी बिखेरता है। शांति की स्थिति को कायम रखने के दौरान मुख्य राष्ट्रीय उद्देश्य की प्राप्ति के लिये देश के नेतृत्व के लिये भारतीय राजनीतिक नेताओं का ये स्मरण कराता है।

हरा रंग
तिरंगे के सबसे निचले भाग में हरा रंग है जो विश्वास, उर्वरता ; खुशहाली ,समृद्धि और प्रगति को इंगित करता है। भारतीय दर्शनशास्त्र के अनुसार, हरा रंग उत्सवी और दृढ़ता का रंग है जो जीवन और खुशी को दिखाता है। ये पूरे भारत की धरती पर हरियाली को दिखाता है। ये भारत के राजनीतिक नेताओं को याद दिलाता है कि उन्हें भारत की मिट्टी की बाहरी और आंतरिक दुश्मनों से सुरक्षा करनी है।

भारत की स्थिति:-
Location of India

India, size and location में विश्व का एक विशालतम देश है। यह उत्तरी गोलार्द्ध में स्थित है। इसका मुख्य भाग 8°4′ (8डिग्री 4मिनट) उत्तरी अक्षांश से लेकर 37°6′ (37 डिग्री 6 मिनट ) उत्तरी अक्षांश तक है। जबकि 68°7′ (68 डिग्री 7 मिनट) पूर्वी देशांतर से लेकर 97°25′ (97 डिग्री 25 मिनट) पूर्वी देशांतर तक है। कर्क रेखा  23°30′ (साढे़ 23 डिग्री या 23 डिग्री 30 मिनट) देश को लगभग दो बराबर भागों में बांटती है, जो भारत के 8 राज्यों से होकर रेखा गुजरती है।

 भारत के मुख्य भूभाग के दक्षिण पूर्व में बंगाल की खाड़ी है, जिसमें अंडमान निकोबार दीप समूह स्थित है। तथा दक्षिण पश्चिम में अरब सागर में लक्षद्वीप समूह स्थित है।

Map of India

भारत विश्व का सातवां बड़ा देश है। भारत का कुल क्षेत्रफल लगभग 32,87,263 (32.8 लाख) वर्ग किलोमीटर है। यह विश्व के कुल क्षेत्रफल का 2.4% है। भारत की स्थलीय सीमा रेखा की लंबाई लगभग 15,200 किलोमीटर तथा  द्वीपों सहित समुद्र तट की कुल लंबाई 7516.6 किलोमीटर है। इस प्रकार भारत की कुल सीमा रेखा की लंबाई लगभग 22,717 किलोमीटर है। भारत के उत्तर में नवीनतम वलित पर्वत, हिमालय के रूप में खड़ा है। भारत का बीच का भाग चौड़ा है जबकि दक्षिण में हिंद महासागर की ओर सकरा होता गया है। इसके पश्चिम में अरब सागर और पूर्व में बंगाल की खाड़ी स्थित है।

भारत के उत्तर से दक्षिण और पूर्व से पश्चिम अक्षांश और देशांतर रेखाओं का विस्तार लगभग 30 डिग्री का है। गुजरात पश्चिम की ओर है जबकि अरुणाचल प्रदेश पूर्व की ओर है, और पृथ्वी पश्चिम से पूर्व की ओर घूमती है, जिस कारण सबसे पहले अरुणाचल प्रदेश में सूर्योदय होता है। गुजरात सबसे पश्चिम में है फलस्वरूप 2 घंटे देर से सूर्योदय और सूर्यास्त होती है।

Leave a Reply